Tue. Aug 20th, 2019

सिडकुल की सत्यम ऑटो कंपनी के कर्मचारियों की बहाली को धरना दिया

1 min read

सोनी चौहान
सिडकुल की सत्यम ऑटो कंपनी के 17 अप्रैल 2017 से निष्कासित कर्मचारियों ने बहाली की मांग को लेकर सत्यम ऑटो कंपनी की यूनियन के अध्यक्ष महिपाल सिंह रावत के नेतृत्व में भगत सिंह चौक पर धरना दिया। धरने में चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति रजि.के केंद्रीय अध्यक्ष जेपी पांडे, लघु व्यापार एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय चोपड़ा, पंडित अधीर कौशिक आदि ने निष्कासित कर्मचारियों के समर्थन में धरना दिया। लघु व्यापार एसोसिएशन के प्रदेश अध्यक्ष संजय चोपड़ा ने बताया कि सत्यम ऑटो कंपनी के प्रबंध मंडल ने 275 कर्मचारियों को बिना कारण के निष्कासन कर दिया। सहायक श्रमायुक्त देहरादून उमेश चंद्र राय के द्वारा निष्कासित कर्मचारियों को बगैर सुने कर्मचारियों के विरोध में फैक्ट्री मालिक से समझौता कर मालिक के हक में केस रजिस्टर्ड कर दिया। जिसको लेकर निष्कासित कर्मचारियों में भारी आक्रोश है। संजय चोपड़ा ने कहा कि श्रम मंत्री डा.हरक सिंह रावत से वार्ता कर कर्मचारियों को न्याय दिलाया जाएगा। पंडित अधीर कौशिक ने कहा कि निष्कासित कर्मचारी अपनी रोजी-रोटी को संघर्ष कर रहे हैं। लगातार टेंशन में रहने से दो कर्मचारियों की मृत्यु हो गई। सत्यम ऑटो कंपनी के मालिक का कहना है कि फैक्ट्री घाटे में चल रही थी और कर्मचारी अनुपस्थित थे। मालिक एक तरफ घाटे की बात कर रहे हैं और कर्मचारियों की गलती बता रहे हैं। जबकि मालिकों ने ठेकेदारी प्रथा में कर्मचारियों को रखकर कंपनी में अपना कार्य करवा रहे हैं। कांग्रेस प्रदेश सचिव जेपी पांडे ने सत्यम ऑटो कंपनी निष्कासित कर्मचारियों के आंदोलन का समर्थन करते हुए कहा कि श्रमिकों का किसी भी तरह से उत्पीड़न नहीं होने दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कर्मचारियों पर कोई भी आरोप नहीं बनता है। पाण्डे ने कहा कि यदि जल्द से जल्द निष्कासित कर्मचारियों की बहाली नहीं की गई तो फैक्ट्री में तालाबंदी कर आंदोलन चलाया जाएगा। अश्विनी कुमार, दिनेश कुमार, तेलूराम प्रधान, सुभाष राठी, राजबीर चौहान, एमडी शर्मा, राकेश राजपूत सहित कई राजनैतिक दलों के कार्यकर्ता व समाजसेवियों ने कर्मचारियों को समर्थन दिया। धरना देने वालों में महीपाल सिंह, राजेंद्र, ओमप्रकाश, सूरज, विपिन पाठक, संजीव, सुभाष, चन्द्रेश, अखिलेश, धीरज आदि सहित बड़ी संख्या में कर्मचारी शामिल रहे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!