Mon. Oct 21st, 2019

प्रिया बाला हत्याकांड का पर्दाफाश, ध्रुवो दास को किया गिरफ्तार

1 min read

नवीन चौहान
प्रिया बाला हत्याकांड का पर्दाफाश कर पुलिस ने आरोपी ध्रुवो दास का गिरफ्तार कर लिया है। प्रिया बाला आरोपी ध्रुवो कुमार दास का खाना बनाने आती थी। जहां दोनों ने अवैध संबंध बनाने शुरू कर दिए। प्रिया बाला के पति ने जब अपनी पत्नी को डांटा तो उसने मिलना बंद कर दिया। इस बात से नाराज ध्रुवो दास ने प्रिया बाला की हत्या कर दी।
एसएसपी उधमसिंह नगर वरिंदर जीत सिंह ने प्रियाबाला हत्याकांड का खुलासा किया। बताया कि रमेश बाला ने ट्रांजिट कैम्प थाने पर अपनी पत्नी प्रिया बाला की हत्या करने का मुकदमा दर्ज कराया। तहरीर में बताया कि ध्रुवो दास पुत्र श्याम दास निवासी चार पाडा पश्चिम बंगाल हाल निवासी किराये के मकान ब्लाक सी 25 थाना ट्रांजिट कैम्प रूद्रपुर में उसकी पत्नी खाना बनाती थी। जिस दौरान दोनो का दोनों का आपस में लगाव हो गया था। दिनांक 12.09.2019 को मेरी पत्नी प्रिया बाला ध्रुवो कुमार दास के साथ चली गयी थी। जिसकी लाश ध्रुवो कुमार दास के कमरे के बेड के नीचे पडी मिली। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर ध्रुवो पर मुकदमा दर्ज किया गया और उसकी तलाश शुरू कर दी।
ट्रांजिट कैम्प थानाध्यक्ष विद्यादत्त जोशी ने घटना की छानबीन की गयी। पुलिस बल ने डॉग स्कवाड एवं फारेंसिक टीम द्वारा घटना स्थल में साक्ष्य एकत्रित किये। पुलिस टीम द्वारा थाना ट्रांजिट कैम्प क्षेत्र मे गोपनीय रूप से पूछताछ एवं सुरागरसी में युवक ध्रुवो कुमार दास का मृतका से बात करना व प्रेम प्रसंग होना प्रकाश में आया। सर्विलांस के माध्यम से कॉल डिटेल निकाली गयी जिसमें पता चला कि मृतका प्रियाबाला व युवक ध्रुवो दास के बीच घंटो बातचीत होती थी। आस पास के लोगों से पूछताछ करने पर पता चला कि मृतका प्रियाबाला व ध्रुवो कुमार के आपस में सम्बन्ध थे। प्रिया बाला के पति रमेश बाला का ध्रुवो कुमार से विवाद की घटना भी सामने आई। 12.09.209 से ध्रुवो कुमार दास का यहां से चला जाना भी प्रकाश में  आया। ध्रुवो दास के परिजनों से पूछताछ करने पता चला कि ध्रुवो कुमार मुल निवासी चांदपाडा, थाना गायघाटा पश्चिम बंगाल का निवासी हैै। पुलिस की टीम को पश्चिम बंगाल भेजा गया। 05.10.2019 को युवक को भारत बांग्लादेश बॉडर के पास पैथर सती होटल से गिरफ्तार किया है। पुलिस द्वारा पूछताछ करने पर आरोपी ध्रुवो कुमार दास ने बताया कि करीब 3 साल पहले मैं मिठाई का काम करने ट्रांजिट कैम्प उत्तराखंड आया था। जहां मेरी मुलाकात प्रिया बाला से हुई थी, प्रिया बाला मेरी लिए खाना बनाती थी। हम दोनो एक दूसरे से बातचीत करते थे और एक दूसरे से प्यार करते थे। करीब डेढ साल पहले मै यहा से कोलकता गया और वहां से मुम्बई चला गया था। हमारी फोन पर बाते होती थी उसने मुझे करीब 8-9 महीने पहले वापस ट्रांजिट कैम्प मिठाई का काम करने बुला लिया था। मैने यहां आकर संजय नगर खेडा में कलकत्ता मिठाई वाले के यहां करीब 1 माह तक मिठाई बनाने का काम किया। फिर मैने और मेरे दोस्त मलय दास ने किराये के कमरे पर ही रसगुल्ला बनाकर घर— घर बेचने का काम किया मै और मेरे दोस्त मलय दास प्रिया बाला के घर पर खाना खाने जाते थे। प्रिया बाला और मै छुपछुप कर मिलते थे। हमारे बीच शारीरिक सम्बन्ध थे। मै अपनी कमाई का सारा पैसा प्रिया बाला को दे देता था। हम शादी करने वाले थे मैने रात दिन मेहनत कर ट्रांजिट कैम्प चौराहा बाजार पर दुकान ली मेरा दोस्त मलय व मै चलाते थे मै मलय से छुपा कर रोज डेढ हजार रूपये प्रिया बाला को दे देता था। फिर मैने दुकान के ही गौरवदास के मकान पर एक कमरा व एक गोदाम किराये पर ले लिया। जब मलय दुकान जाता था तो मै और प्रिया बाला आपस में कमरे पर मिलते थे इस बात का पता प्रिया बाला के पति को लगने पर मौहल्ले में काफी हंगामा हुआ प्रिया बाला के पति ने मेरा घर पर आना जाना बन्द करा दिया था। फिर मैने अपना खाना प्रिया बाला के ठीक सामने रहने वाली मौसी कुटी के घर पर लगा दिया। फिर हम चोरी छिपे मिलते थे बदनामी के डर से एक दिन प्रिया बाला ने मुझसे शादी करने व फोन करने से मना कर दिया। इस बात का मुझे बहुत धक्का लगा मै प्रिया बाला को बहुत प्यार करता था और अपनी कमाई का काफी पैसा प्रिया बाला को दे चुका था। मेरे काफी मनाने पर भी वह नही मान रही थी। फिर मैने प्रिया बाला के पास जमा किये साठ हजार रू मांगे इस पर प्रिया बाला ने मुझे पुलिस में जाने की धमकी दी मैने उसे बहुत समझाया पर वह नहीं मानी उस दिन से प्रिया बाला ने मेरा फोन भी उठाना बन्द कर दिया इस पर मुझे बहुत घुस्सा आया और 12.09.2019 को मै खाना खाने मौसी के घर गया था वही मैने प्रिया बाला को मिलने के लिए कमरे में आने को बुलाया लेकिन उसने मना कर दिया मेरे द्वारा काफी जोर देने पर वह अन्तिम बार मिलने को तैयार हो गयी। मैने कमरे मे उसे बहुत समझाया पर वह नही मानी और पैसे वापस भी नहीं दिये और कहने लगी मैं तेरी श्किायत पुलिस में करूंगी मैने उसे पकड लिया जिससे वह जोर जोर से चिल्लाने लगी मैने उसका गला अपने हाथों से दबा दिया जिससे वह मर गयी। फिर मैने उसका गला तौलिये से बांध दिया मारने के बाद उसकी लाश को मैने बैड के नीचे छिपा दिया और कमरे से अपना जरूरी सामान निकाल कर कमरे में ताला लगा कर दुकान पर गया और मलय को सारी बात बतायी और दुकान में काम करने वाले लडके अंंिकत को दुकान सौप कर मलय और मैं टुकटुक से रोडवेज रूद्रपुर गये जहां से बस पकड कर रामपुर चले गये रामपुर से ट्रेन पकड कर 03.09.2019 की शाम को पश्चिम बंगाल पहंुचे। जहां मलय और मैं अलग हो गये मलय कहां गया मुझे नही पता मैं वहां बांग्लादेश बॉडर निवासी अपने रिश्तेदार पलाश के घर बोनगांव पर रूका जब मुझे पता चला कि उत्तराखंड पुलिस मुझे ढूड रही है तब मैने अपनी मौसी अनीता रानी दास जो बांग्लादेश के ग्राम खुलना की रहने वाली है के घर बांग्लादेश भागने का प्लान बनाया तथा 05.10.2019 की सुबह मैं बाग्लादेश जा रहा था कि भारत बांग्लादेश बॉडर, पैट्रापोल पर मुझे पुलिस ने पकड लिया।
ध्रुवो कुमार दास पुत्र भयामपद दास निवासी चांदपारा, थाना गईघाटा, 24 परगना नोर्थ पश्चिम बंगाल उम्र 33 वर्ष ।
पुलिस टीम
थानाध्यक्ष ट्रांजिट कैम्प विद्यादत्त जोशी, उपनिरीक्षक धर्मेन्द्र आर्य, एचसीपी प्रकाश भगत, कांस्टबल उमेश पंत, कांस्टबल प्रदीप नेगी, कांस्टबल पंकज पोखरियाल।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!