Mon. Nov 18th, 2019

अवैध संबंधों के चलते की राजन की हत्या

1 min read

नवीन चौहान
अवैध संबंधों के चलते राजन की हत्या की गई थी। पुलिस ने आरोपियों को गिरफ्तार कर राजन हत्याकांड का पर्दाफाश कर दिया है। आरोपी महिला ने अपने प्रेमी की हत्या करने की सुपारी 20 हजार में दी। आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने के लिए हत्या करने के बाद आत्महत्या की जानकारी पुलिस को दी। लेकिन पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और हत्या में प्रयुक्त बेलन बरामद कर लिया। घटना सिडकुल क्षेत्र की है।
सिडकुल थाना प्रभारी प्रशांत बहुगुणा ने बताया कि एक नवंबर 2019 को लीला देवी पत्नी निर्मल सिंह निवासी सूरज नगर थाना ठाकुरद्वारा, मुरादाबाद यूपी ने अपने पुत्र राजन की हत्या किए जाने के संबंध में पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर विवेचना प्रारंभ कर दी। इस हत्याकांड का खुलासा करने के लिए एक पुलिस टीम गठित कर दी गई। पुलिस टीम ने अभियुक्त राजेश देवी पत्नी चांद सिंह निवासी अमीगढ़ थाना चरथावल जिला मुजफ्फरनगर व अभियुक्त पम्मी कुमार पुत्र वरम सिंह निवासी ग्राम छजपुरा थाना नूरपुर जिला बिजनौर हाल पता रोशनपुरी रावली महदूद सिडकुल हरिद्वार को गिरफ्तार किया गया।
अवैध संबंधों का खुलासा
आरोपियों ने बताया कि राजेश देवी का अपने किरायेदार राजन के साथ अवैध संबंध थे। किंतु कुछ समय से राजन और राजेश के बीच झगड़ा होने लगा। दीपावली से दो दिन पूर्व राजेश देवी ने अपने ही दूसरे किरायेदार पम्मी से कहा कि राजन उसे परेशान कर रहा है। राजन ने शराब पीकर मेरे पति के सामने मेरे चरित्र के बारे में आरोप लगाकर मुझे अपमानित किया। इसलिए राजन की हत्या करनी है।
20 हजार की दी सुपारी
राजेश देवी ने पम्मी को 20 हजार की रकम राजन की हत्या करने के लिए देने की बात कही। राजन कर्जदार था। जिसको वापिस करने के लिए दबाव था। इसलिए मेरे पैंसों के लालच पम्मी राजन की हत्या करने के लिए तैयार हो गया।
पुलिस को किया गुमराह
आरोपियों ने पुलिस को गुमराह करने का पूरा ताना बाना बुना था। हत्या को आत्महत्या दिखाने का प्लान भी पुलिस ने फेल कर दिया। 30 अक्टूबर को सुबह 9 बजे के आसपास मकान में राजेश देवी पम्मी कुमार व मृतक राजेश के अलावा कोई मौजूद नही था। इसी बात का फायदा उठाकर राजेश देवी और पम्मी ने योजना के मुताबिक राजन के कमरे में गए। कमरे में जाते ही पहले दरवाजा बंद किया जहां राजन लेटा हुआ था। राजन की छाती पर बैठकर उसके हाथ पैर दबा लिए। बेलन से उसका गला दबा दिया। तथा राजेश देवी ने मुंह पर कपड़ा रखा। जिससे वह चिल्ला ना सके। जब वह मर गया तो पुलिस को गुमराह करने के लिए दोनों ने राजन के शव को चादर से गले में फंदा बनाकर लटका दिया। ताकि पुलिस इसके आत्महत्या का मामला समझे। आरोपियों ने खुद ही पुलिस को आत्महत्या की जानकारी दी। ताकि पुलिस को शक ना हो।
पुलिस टीम में शामिल
सिडकुल थाना प्रभारी प्रशांत बहुगुणा, उप निरीक्षक मोहन कठैत, कांस्टेबल नरेंद्र राणा, कांस्टेबल रोहित बरोडिया महिला कांस्टेबल सरिता रावत

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!