Mon. Dec 16th, 2019

कॉलेज में 180 दिन की उपस्थिति अनिवार्य, शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत

1 min read

नवीन चौहान
उत्तराखंड की उच्च शिक्षा को बेहतर बनाने की कवायद में जुटे उच्च शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए 180 दिन की उपस्थिति को अनिवार्य और इससे कम उपस्थिति वाले छात्र—छात्राओं को परीक्षा से वंचित करने के निर्देश कॉलेजों को दिए है। इसके अलावा अभिभावकों को उनके बच्चों की उपस्थिति की जानकारी प्रदान की जाए।


हरिद्वार के डाम कोठी में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने जनपद हरिद्वार में स्थित सभी राजकीय महाविद्यालयों के प्राचार्यो के साथ बैठक की। उन्होंने निर्देश दिये कि प्रत्येक छात्र के लिए 180 दिन उपस्थिति अनिवार्य है। कम उपस्थिति होने पर परीक्षा से वंचित किया जाएगा। 02 अक्टूबर 2019 से केन्द्र सरकार द्वारा फिट इंडिया कार्यक्रम की शुरूआत की जा रही है। राज्यभर में 02 अक्टूबर से 20 नवम्बर 2019 तक प्रत्येक कॉलेजों में सेमिनार, गोष्ठियों का आयोजन किया जाएगा। इन सेमिनार एवं गोष्ठियों में अभिभावकों को आमंत्रित किया जाएगा एवं 180 दिन कॉलेज में उपस्थिति अनिवार्य तथा अन्य जानकारियां प्रदान की जाएंगी। ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि प्रत्येक 15 दिन में संदेश इत्यादि के माध्यम से अभिभावकों को स्कूली छात्रों की उपस्थिति की जानकारी दी जाएगी। साथ ही अभिभावकों को कॉलेज हेतु पुस्तक दान अभियान के अंतर्गत पुस्तकें दान करने के लिए प्रेरित भी किया जाएगा।


प्रत्येक कॉलेज में ग्रीन कैंपस, क्लीन कैंपस अभियान चलाया जाएगा जिसके अंतर्गत प्रत्येक छात्र द्वारा विद्यालय परिसर में एक वृक्ष लगाया जाएगा तथा अध्यापकों द्वारा संरक्षित किया जाएगा। इसके साथ ही नशा मुक्ति अभियान चलाया जाएगा। प्रत्येक कॉलेज को एक-एक गांव गोद लेने, उन गांवों में 100 प्रतिशत साक्षरता हेतु अभियान चलाने तथा नशा मुक्ति से दूर रहने हेतु जागरूकता लाने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी राजकीय महाविद्यालयों से आये प्राचार्यों कॉलेज में आने वाली समस्याओं एवं आवश्यकताओं के विषय में विस्तृत रूप से चर्चा की।


राजकीय उच्चतर महाविद्यालय मरगूबपुर, मंगलौर डिग्री कॉलेज, लक्सर डिग्री कॉलेज, खानपुर डिग्री कॉलेज चुड़ियाला डिग्री कॉलेज के प्राचार्य ने स्मार्ट क्लास की मांग की गयी। मंत्री द्वारा इस संबंध में जिलाधिकारी हरिद्वार एवं खनन अधिकारी हरिद्वार को पत्र द्वारा अवगत कराने तथा प्रतिलिपि उनको भेजने के निर्देश दिये। साथ ही प्राचार्यों को अपने-अपने क्षेत्र के विधायकों से विधायक निधि से कॉलेजों को पुस्तक एवं फर्नीचर की मांग करने को कहा।
कॉलेज की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए आवश्यक फंड हेतु अन्य वैकल्पिक स्रोतों, सिडकुल, संत महात्माओं, दानदाताओं से अपील करने को कहा।
इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी प्रशासन बीके मिश्र, तहसीलदार हरिद्वार आशीष घिल्डियाल, राउ महाविद्यालय मरगूबपुर के प्राचार्य डॉ सत्यपाल सिंह, मंगलौर डिग्री कॉलेज के प्राचार्य दिलीप सिंह नेगी, प्रभारी प्राचार्य लक्सर डिग्री कॉलेज सद्गुरू शरण, खानपुर डिग्री कॉलेज के प्राचार्य राजीव रतन तथा चुडियाला डिग्री कॉलेज के प्राचार्य केएस. जोहरी आदि उपस्थित थे।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!