Sun. Dec 15th, 2019

उत्तराखंड के समग्र शिक्षा अभियान के उप निदेशक आकाश सारस्वत ने डीएवी के बच्चों को शिक्षा के प्रति प्रेरित किया

1 min read

नवीन चौहान
डीएवी सेंटेनरी पब्लिक स्कूल जगजीतपुर में समग्र शिक्षा अभियान के तहत बच्चों को शिक्षा के प्रति प्रेरित किया गया। उत्तराखंड के समग्र शिक्षा अभियान के उप निदेशक आकाश सारस्वत ने स्कूली बच्चों को मादक पदार्थो से दूर रहने की नसीहत दी तथा राष्ट्र प्रेम का जोश भरा। उन्होंने शिक्षा के महत्व पर प्रकाश डाला तथा बच्चों को एक अच्छा नागरिक बनकर देश सेवा करने का संकल्प कराया। बच्चों ने कार्यक्रम को सराहा।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देशन में तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री प्रकाश जाबडेकर ने 24 मई 2018 में समग्र शिक्षा योजना अभियान की शुरूआत की थी। इस योजना के तहत प्री-नर्सरी से कक्षा 12वीं तक के छात्रों के समग्र विकास पर केंद्रित होगी। करीब 75,000 करोड़ रुपये के व्यय के साथ 31 अगस्त 2020 तक इस अभियान के तहत शिक्षा का स्तर सुधारने तथा तकनीकी इस्तेमाल बढ़ाकर विद्यार्थी और शिक्षकों को अधिक सशक्त बनाने की दिशा में कार्य किया जायेगा। योजना का मुख्य उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण शिक्षा उपलब्ध कराना है तथा साथ ही बच्चों को समग्र रूप से विकास की ओर ले जाना है। इसी मुहिम को पूरा करने के उददेश्य से उत्तराखंड के समग्र शिक्षा योजना के उप निदेशक तथा हरिद्वार जनपद के जिला प्रभारी आकाश सारस्वत शुक्रवार 22 नवंबर की सुबह करीब आठ बजे डीएवी सेंटेनरी स्कूल जगजीतपुर पहुंचे। जहां उन्होंने करीब एक हजार से अधिक बच्चों को संबोधित किया तथा उनका सर्वागीण विकास करने के लिए मार्गदर्शन दिया। उन्होंने बच्चों को दुरव्यसनों से दूर रहने की सलाह दी तथा अपने स्वास्थ्य का बेहतर ध्यान रखने की नसीहत भी दी।

इस अवसर पर शिक्षा विभाग हरिद्वार से अजय चौधरी तथा श्रीकांत पुरोहित भी साथ रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ करने से पूर्व स्कूल के प्रधानाचार्य पीसी पुरोहित ने मुख्य अतिथि उप निदेशक आकाश सारस्वत का बुके देकर स्वागत किया। प्रधानाचार्य पीसी पुरोहित ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि सभी को अपने कर्तव्य का पूरी ईमानदारी से पालन करना चाहिए। बच्चों को स्कूल में मन लगाकर शिक्षा ग्रहण करनी चाहिए तो शिक्षकों को भी अपना सर्वस्व ज्ञान बच्चों को देना चाहिए। जिससे बच्चों का समग्र विकास हो सकें। एक श्रेष्ठ विद्यार्थी ही श्रेष्ठ नागरिक बनकर राष्ट्र की सेवा कर सकता है। प्रधानाचार्य ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया।

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!