Mon. Oct 21st, 2019

सीमेंट कंपनियों की कालाबाजारी का खेल, बाजार में त्राहिमाम

1 min read

नवीन चौहान
सीमेंट कंपनियों के सिंडिकेट ने मनमर्जी शुरू कर दी है। कंपनियों ने करीब एक माह के भीतर ही कीमतों में भारी बढोत्तरी कर दी है। एक अप्रैल से लेकर मई माह के बीच में तीन बार में करीब 100 रूपये बोरी की कीमत बढ़ा दी है। जिससे सीमेंट के खरीददारों को भारी संकट का सामना करना पड़ रहा है। एक गरीब आदमी के घर बनाने का सपना भी अधर में लटक रहा है। इससे साफ तौर पर जाहिर होता है कि सीमेंट कंपनिया कालाबाजारी करने में जुटी है। जहां ग्राहकों को मुसीबत का सामना करना पड़ रहा है। वही सीमेंट कंपनियां चांदी काट रहे है। उत्तराखंड की बात करें तो यहां पहाड़ी क्षेत्रों में 510 रूपये की बोरी मिल रही है। जबकि राज्य में ब्रांडिग यूनिट पर 10 सालों तक कर में छूट प्रदान की गई है। ऐसे में चुपचाप सेंधमारी की बात किसी की भी समझ से परे है।
लोकसभा चुनाव का आगाज होते ही सीमेंट कंपनियों ने ग्राहकों की जेब ढीली करने की ठान ली। आमतौर पर बाजार में किसी की सामान के दाम एकाएक बढ़ते है तो जनता में हाय तौबा मच जाती है। लेकिन लोकसभा चुनाव के दौरान नेता और जनता चुनाव में व्यस्त हो गई। सीमेंट कंपनियों को मौके की नजाकत का फायदा लिया और सीमेंट के दाम चुपचाप बढ़ा दिए। बड़े कारोबारियों और बिल्डर्स के काम भी बंद पड़े है। लेकिन आम गरीब जनता जो सिर छिपाने के लिए छत बना रही है। उनकी जेबों पर डाका डाला जा रहा है। वह मजबूरी में ही सही 100 रूपया मंहगा सीमेंट खरीदने को विवश है। हालांकि गरीब जनता इस मामले में शोर-शराबा भी नही कर रही है। इससे एक बार तो साफ हो गई कि शोर शराबा और हंगामा भी बड़े बिल्डर्स के इशारों पर होता है। ऐसे में गरीबों की सुध लेने वाला कोई नही है।
सीमेंट कंपनियों का खेल
बाजार में मनमर्जी के दाम पर सीमेंट बेच रही कंपनियों ने बड़ा खेल किया है। जब रेट पूछने के लिए कंपनी प्रबंधकों से बात करने का प्रयास किया गया तो उन्होंने बताने से इंकार कर दिया। आखिरकार ऐसा क्या हुआ तो सीमेंट कंपनियों ने लोकसभा चुनाव के बीच अचानक सीमेंट की प्रति बोरी 100 रूपये बढ़ा दिए। हरिद्वार में संचालित हो रही तीनों कंपनियों के प्रबंधक रेट बढ़ने के मामले में चुप्पी साधे हुए है।

सीमेंट कंपनियों ने बिल्डरों को दिया धोखा
बिल्डरों को सीमेंट कंपनिया नान टेड में जो माल दिया करती थी। उसका अग्रिम पेमेंट जाने के बाद भी माल की डिलीवरी नही दी गई और सभी आर्डर केंसिल कर दिए गए। जिसके बाद बिल्डरों को भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।
हरिद्वार में ये तीन कंपनियां
– अल्टाटेक, भगवानपुर
– अम्बुजा सीमेंट, भगवानपुर
– श्री अल्टा जंक रोधक, लक्सर

Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!