हरिद्वार के झबरेड़ा कस्बे में जल्द लगेगा रोजगार मेला, 250 कंपनियां देंगी नौकरियां

कारोबार गैजेट हरिद्वार


नवीन चौहान
हरिद्वार जनपद के झबरेड़ा कस्बे में जिलाधिकारी हरिद्वार सी रविशंकर के प्रयास से रोजगार मेला लगेगा। रोजगार मेले में माध्यम से जनपद के प्रशिक्षित या कुशल या अकुशल बेरोजगारों को रोजगार दिया जाएंगा। रोजगार मेले में करीब 250 कंपनियां प्रतिभाग करते हुए नौकरियां देने को प्रक्रिया करेगी। जल्द की रोजगार मेले की तारीख निश्चित हो जाएगी। रोजगार मेला झबरेड़ा क्षेत्र में लगेगा।
शनिवार को मेला नियंत्रण भवन(सीसीआर) में झबरेड़ा विधान सभा क्षेत्र में रोजगार मेला लगाने के लिए जिलाधिकारी सी रविशंकर ने तैयारियों के संबंध में संबंधित विभागों के अधिकारियों से जानकारी ली। जिसमें जिला सेवायोजन अधिकारी उत्तम कुमार ने बताया कि रोजगार मेले के लिए 250 से अधिक कंपनियों से संपर्क स्थापित किया गया है। जिलाधिकारी सी रविशंकर ने इस पर सराहना की। जिलाधिकारी ने 15 दिन के भीतर रोजगार मेला आयोजित कराने को लेकर तैयारियों के लिए निर्देश देते हुए अन्य जानकारी ली। जिला सेवायोजन अधिकारी उत्तम कुमार ने बताया कि जो बच्चे स्थायी रूप से वहां निवास कर रहे हैं, उनके मोबाइल नम्बर तो हैं, वे लगभग पांच-छह हजार के करीब होंगे। इस पर जिलाधिकारी ने कहा कि इसके लिए सभी एरिया के बच्चों को सूचित करते हुये शामिल करिए। आप बल्क एसएमएस भी भेज सकते हैं। इस पर अधिकारियों ने विचार-विमर्श के लिए समय मांगते हुए यथाशीघ्र बताने की बात कही। जिलाधिकारी ने अधिकारियों को निर्देशित किया कि वे एक ऐसा सिस्टम विकसित करिये, जिसमें बेरोजगार लोगों का पूरा डाॅटा हो, उसको विभिन्न श्रेणियों में बांटते हुए उसी अनुसार उनको रोजगार मुहैया कराएं। जो अकुशल हैं, उन्हें विभिन्न योजनाओं में प्रशिक्षण दिलाकर रोजगार उपलब्ध कराने में उनकी मदद करें तथा सेल्फ इंप्लाइमेंट के लिये भी प्रोत्साहित करें। उन्होंने कहा कि आपको बच्चों तक पहुंचने का तरीका निकालना होगा तथा सोशल मीडिया का भी सहारा लेना होगा। उन्होंने कहा कि जिन बच्चों को रोजगार की सख्त जरूरत है, उन्हें आपके माध्यम से मदद हो जाएगी।
जिलाधिकारी ने अधिकारियों से कहा कि रोजगार देने वाले जितने भी विभाग या संस्थाएं हैं, उनसे समन्वय स्थापित करते हुए रोजगार से जुड़ी हुई जितनी योजनायें हैं, उनकी एक बुकलेट तैयार कर लें, जिसमें किस रोजगार के लिये किस तरह की योग्यता की आवश्यकता है, उसका पूरा विवरण उसमें स्पष्ट होना चाहिये ताकि आवेदक अपनी योग्यता के अनुसार सही चुनाव कर सके। उन्होंने कहा कि उद्योगोंध्संस्थाओंध् विभागों की जिस तरह की आवश्यकतायें हैं, उसी अनुसार बच्चों को कुशल बनाया जाना चाहिए। बैठक में सिडकुल आरएम जीएस रावत, डीआईसी जीएम पल्लवी गुप्ता, सहायक श्रमायुक्त अरविन्द सैनी आदि शामिल हुए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *